Mahua Live Nalanda: विश्व यक्ष्मा दिवस पर एएनएम स्कूल की छात्राओं ने निकाली प्रभात फेरी

बिहारशरीफ(नालंदा) । विश्व यक्ष्मा दिवस पर गुरुवार कि सुबह जिला मुख्यालय की सड़कें“जन-जन की यही पुकार, टीबी मुक्त अपना बिहार” , टीबी हारेगा –देश जीतेगा”” जैसे नारों से गूँजता दिखा। अवसर था सदर अस्पताल स्थित एएनएम स्कूल की छात्राओं द्वारा निकाली गयी प्रभात फेरी का जिसके द्वारा न सिर्फ वो जिले को यक्ष्मा मुक्त करने का संकल्प लेती दिखीं बल्कि राहगीरों को रोग के लक्षणों और उससे बचने के उपाय समझाती भी दिखी। डॉ राम कुमार द्वारा हरी झंडी दिखा कर रैली को रवाना किया गया. यह रैली शहर के विभिन्न चौराहों से होते हुए सदर अस्पताल वापस पहुँचने तक एक सभा में तब्दील हो चुकी थी। जिसे संबोधित करते हुये डॉ. कुमार ने टीबी उन्मूलन एवं जागरूकता विषय पर विस्तार से बताया। उन्होने कहा वर्ष 2025 तक सरकार द्वारा पूर्ण रूप से टीबी मुक्त भारत निर्माण का लक्ष्य निर्धारित किया गया है।यक्ष्मा दिवस के अवसर पर सदर अस्पताल स्थित सभागार में एक सेमिनार का आयोजन किया गया। जिसमें एएनएम स्कूल की छात्राओं के संग प्रभारी यक्ष्मा रोग नियंत्रण पदाधिकारी डॉ. विवेक कुमार, प्रभारी सिविल सर्जन सह अपर मुख्य चिकित्सा पदाधिकारी डॉ. विजय कुमार सिंह एवं अन्य स्वास्थ्यकर्मी मौजूद थे। इस अवसर पर डॉ. विजय सिंह ने बतया कि टीबी उन्मूलन अभियान को सफल बनाने में विभाग के कर्मियों के साथ साथ आम लोगों की सहभागिता अति आवश्यक है। डॉ. विवेक कुमार ने टीबी के प्रारम्भिक लक्षणों की जानकारी देते हुये बताया कि यह रोग लाइलाज नहीं है। किन्तु, समय पर जाँच और जाँच के पश्चात चिकित्सकों के सलाहानुसार इलाज शुरू कराना जरूरी है। क्योंकि, शुरुआती दौर में ही इलाज शुरू कराने से इस बीमारी को आसानी के साथ मात दी सकती है। इसके लिए सरकार द्वारा स्थानीय स्तर पर समुचित जाँच और इलाज की व्यवस्था सुनिश्चित की गई। इसलिए, तमाम जिलेवासियों से अपील है कि लक्षण महसूस होने पर तुरंत अपने नजदीकी स्वास्थ्य संस्थान में जाकर जाँच कराएं और जाँच के पश्चात चिकित्सा परामर्श के अनुसार अपना इलाज भी शुरू कराएं। इलाज के दौरान बेहतर पोषण के लिए दी जाती है सहायता राशि डॉ. कुमार ने आगे बताया कि टीबी के मरीजों को इलाज के लिए खर्च की चिंता करने की जरूरत नहीं है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.