Mahua Live Nalanda: डाक कर्मियों को चुनाव ड्यूटी से मुक्त करने की राज्य निर्वाचन आयोग से मांग।

Mahua Live Nalanda:-बिहार में होने वाले पंचायत चुनाव में आवश्यक कार्य का निष्पादन करने वाले पदाधिकारी एवं डाक कर्मियों को पंचायत चुनाव से अलग रखने की मांग डाक विभाग के वरीय अधिकारी के द्वारा राज निर्वाचन आयोग बिहार से किया गया है। जिला पदाधिकारी से भी पत्र के माध्यम से पदाधिकारी एवं डाक कर्मियों को चुनाव ड्यूटी से मुक्त करने की मांग किया गया है। बताया जाता है कि प्रदेश में पंचायत चुनाव हो रहे हैं । जिसमें डाक विभाग के पदाधिकारी एवं डाक कर्मियों को चुना चुनाव कार्य में लगाया गया है जो बिल्कुल गलत है। डाक विभाग आवश्यक के सेवा में आता है। जहां प्रतिदिन डाक विभाग में इमरजेंसी पत्र लोगों के बीच वितरण किया जाता रहा है। इतना ही नहीं प्रतिदिन लाखों रजिस्ट्री, इमरजेंसी स्पीड पोस्ट, पार्सल, इमरजेंसी ईएमओ जो तुरंत भुगतान किया जाता रहा है। चुनाव ड्यूटी में कर्मियों को लगाये जाने से डाक विभाग की व्यवस्था चरमरा सकती है। इसके लिए डाक विभाग के वरीय अधिकारी ने क्षेत्रीय निदेशक कार्यालय के पत्रांक संख्या 183 दिनांक 16 सितंबर कार्यालय पोस्टमास्टर जनरल बिहार कार्यालय के पत्रांक 183 दिनांक 16 सितंबर राष्ट्रीय कृषि और ग्रामीण विकास बैंक बिहार कार्यालय के पत्रांक 842 दिनांक 11 सितंबर से राज निर्वाचन आयोग बिहार को पत्र प्रेषित कर डाक विभाग के पदाधिकारी एवं डाक कर्मियों को चुनाव ड्यूटी से अलग रखने की मांग किया गया है । साथ साथ जिला पदाधिकारी के पास भी पत्र प्रेषित किया गया है। पोस्ट मास्टर जनरल अदनान अहमद ने कहा है कि पंचायत राज अध्यादेश 2006 की धारा 125(5) के परन्तुक के प्रधान के अनुसार केंद्रीय कर्मियों को अब तक पंचायत निर्वाचन के कार्य में प्रतिनियुक्त नहीं की जाती रही है। राज्य निर्वाचन आयोग बिहार के पत्रांक संख्या 30- 121/ 2006 / 2824 दिनांक 12 अप्रैल 2006 की प्रति अवलोकनार्थ संलग्न की जा रही है। डाक विभाग की सेवा आवश्यक सेवा के अधीन आती है‌। वर्तमान में डाक विभाग अपने आधारभूत सेवा जैसे निर्बंधित पत्र, स्पीड पोस्ट, पार्सल इत्यादि के अलावे इंडिया पोस्ट पेमेंट बैंक के माध्यम से बैंकिंग सुविधाएं भी उपलब्ध करा रही है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.