Mahua Live Nalanda: आत्मनिर्भर भारत के अंतर्गत रोजगार मार्गदर्शन कार्यक्रम आयोजित

बिहार शरीफ(नालंदा) । भारत सरकार युवा कार्यक्रम एवं खेल मंत्रालय नेहरू युवा केन्द्र, नालन्दा द्वारा कतरी सराय के निजी स्कूल में कार्यक्रम हुई। दुनिया बहुत तेज़ी से बदल रही है। हर दिन नए-नए बदलाव आ रहे हैं। तकनीक का महत्व इस वैश्वीकरण के युग में सभी देशों ने माना है। इसलिए सभी विकसित देशों ने इस ओर बहुत पहले ही ध्यान देना शुरू कर दिया था। भारत पिछले कुछ सालों में अपने युवाओं में दक्षता और कुशलता लाने के लिए स्किल इंडिया, स्टार्ट अप, स्टैंड अप, आत्मनिर्भर भारत जैसी घोषणाएँ कीं। ऐसे में आज युवाओं के लिए यह आवश्यक है की पारम्परिक शिक्षा के साथ साथ हुनरमंद बनें। ये बातें नालन्दा कॉलेज के राजनीति विज्ञान विभाग के अध्यक्ष डॉ बिनीत लाल ने कतरीसराय में नेहरू युवा केंद्र नालन्दा के द्वारा आयोजित रोज़गार परामर्श कार्यशाला में बोलते हुए कहा। डॉ लाल ने कहा की रोज़गार के अवसर तो हैं पर उनकी प्रकृति बदल गई है और अब वह ज़्यादा तकनीक पर आधारित हो गई है ऐसे में युवाओं को भी रोज़गारपरक शिक्षा पर ध्यान देना चाहिए। इसके साथ ही नई नई चीज़ों के बारे में जानकारी प्राप्त कर अपने अंदर नवाचार को विकसित करना चाहिए जिससे वे एक नया भारत और आत्मनिर्भर भारत बनाने में सहयोगी बन सकें। कार्यशाला में खेल शिक्षक दिलीप पटेल ने छात्रों से कहा की आज के दौर में खेल भी पेशेवर होते जा रहा है और ऐसे में यह क्षेत्र भी रोज़गार के दृष्टिकोण से आकर्षक है। उन्होंने कहा की खेल को सभी युवा साथियों को अपनी दिनचर्या में शामिल करना चाहिए जिससे वे जो भी करें उसमें उनका मन लग सके। कार्यक्रम के संयोजक प्रिंस पटेल ने सभी अतिथियों एवं उपस्थित लोगों का धन्यवाद करते हुए कहा की नेहरू युवा केंद्र इस तरह के कार्यशालाओं के द्वारा ग्रामीण क्षेत्रों के युवाओं का मार्गदर्शन लगातार कर रही है निश्चित रूप से दूर दराज़ के युवाओं को इस तरह के कार्यशाला से लाभ मिलेगा।
जिसमें केंद्र के अधिकारी पिंकी गिरी का अहम योगदान है। कार्यक्रम में चन्द्रमणि पटेल, प्रिंस सक्सेना, रौशन गोपाल, विद्यालय के निदेशक, शिक्षक और सैकड़ों की संख्या में युवा मौजूद थे जिन्होंने अनेक विषय पर सवाल भी पूछे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.