Mahua Live Nalanda: गांधी जी एवं शास्त्री जी के सपनों को साकार कर रही है बिहार की सरकार :-श्रवण कुमार

Mahua Live Nalanda:-बिहार शरीफ के गांधी मैदान में राष्ट्रपिता महात्मा गांधी तथा पूर्व प्रधानमंत्री लाल बहादुर शास्त्री जी की जयंती के अवसर पर उनके तैल्य चित्र पर पुष्पांजलि अर्पित कर बिहार सरकार के ग्रामीण विकास मंत्री श्रवण कुमार ने अपने श्रद्धा सुमन अर्पित की। इस अवसर पर उन्होंने कहा कि महात्‍मा गांधी महज एक नाम नहीं, बल्कि एक विचार हैं, एक सोच हैं। एक ऐसी सोच, जो न केवल भारत, बल्कि पूरी दुनिया में आज भी प्रासंगिक बनी हुई है और करोड़ों लोगों को प्रेरित करती है। अहिंसा महात्‍मा गांधी के दर्शन का मूल मंत्र रहा, जिसके बारे में उन्‍होंने कहा था, ‘अहिंसा एक दर्शन है, एक सिद्धांत है और एक अनुभव है, जिसके आधार पर समाज को बेहतर बनाया जा सकता है।’दुनिया को अहिंसा जैसी असाधारण सीख देने वाले महात्‍मा गांधी को प्‍यार से लोग बापू भी बुलाते हैं। यह नाम उन्‍हें बिहार में चंपारण जिले के एक किसान से मिला था। बापू यहां नील की खेती करने वाले किसानों पर अंग्रेजों के अत्‍याचार के बारे में जानकर यहां पहुंचे थे, ताकि इसका कोई समाधान निकाला जा सके। यहां उन्‍हें इतना बेशुमार प्‍यार मिला कि वह देश और दुनिया में बापू के नाम से मशहूर हुए।शास्त्री जी सच्चे गांधीवादी थे जिन्होंने अपना सारा जीवन सादगी से बिताया और उसे गरीबों की सेवा में लगाया। भारतीय स्वाधीनता संग्राम के सभी महत्वपूर्ण कार्यक्रमों व आंदोलनों में उनकी सक्रिय भागीदारी रही और उसके परिणामस्वरूप उन्हें कई बार जेलों में भी रहना पड़ा। स्वाधीनता संग्राम के जिन आंदोलनों में उनकी महत्वपूर्ण भूमिका रही उनमें 1921 का असहयोग आंदोलन, 1930 का दांडी मार्च तथा 1942 का भारत छोड़ो आंदोलन उल्लेखनीय हैं।तीस से अधिक वर्षों तक अपनी समर्पित सेवा के दौरान लाल बहादुर शास्त्री अपनी उदात्त निष्ठा एवं क्षमता के लिए लोगों के बीच प्रसिद्ध हो गए। विनम्र, दृढ, सहिष्णु एवं जबर्दस्त आंतरिक शक्ति वाले शास्त्री जी लोगों के बीच ऐसे व्यक्ति बनकर उभरे जिन्होंने लोगों की भावनाओं को समझा। वे दूरदर्शी थे जो देश को प्रगति के मार्ग पर लेकर आये। लाल बहादुर शास्त्री महात्मा गांधी के राजनीतिक शिक्षाओं से अत्यंत प्रभावित थे। अपने गुरु महात्मा गाँधी के ही लहजे में एक बार उन्होंने कहा था – “मेहनत प्रार्थना करने के समान है।” महात्मा गांधी के समान विचार रखने वाले लाल बहादुर शास्त्री भारतीय संस्कृति की श्रेष्ठ पहचान हैं। गांधी जी ने जो गांव के विकास का सपना देखा था उसे बिहार की सरकार ने सात निश्चय योजना के माध्यम से पूरा करने का काम किया है विकास पुरुष श्री नीतीश कुमार जी के नेतृत्व में सुवे का न्याय के न्याय के साथ विकास का कार्य हुआ है बिहार में हुए कार्यों की डंका देश से लेकर विदेशों तक बज रहा है बिहार के कार्यों का अनुसरण देश के अन्य राज्यों की सरकारें कर रहे हैं ये नीतीश कुमार जी कुशल नेतृत्व का कमाल है।

इस अवसर पर उनकी याद में पौधारोपण किया गया इस अवसर पर नगर आयुक्त अंशु अग्रवाल मेयर वीणा देवी उप मेयर गजाला परवीन वार्ड पार्षद प्रमोद कुमार राजेश गुप्ता नारायण यादव पप्पू कुमार वकील खान गुलरेज जदयू जिलाध्यक्ष सिया शरण ठाकुर रंजीत कुमार महमूद बख्खो मनोज तांती, प्रोफेसर परविंदर भारती पप्पू खान रोहिल्ला युवा जदयू नेता धनंजय देव किशोर कुणाल सनी शर्मा विकास मेहता छात्र जदयू कार्यकारी अध्यक्ष सनी पटेल पीयूष पासवान शाकिब अल हसन सौरभ कुमार दिनेश कुमार अरविंद कुमार जदयू नेता कुमारमंगलम जगलाल चौधरी,इंदू चौहान, पिंटू कुमार, पुष्पराज कुमार, सौरभ कुमार, सुमित कुमार, राजेश कुमार आदि जदयू नेता उपस्थित रहे।

राकेश वर्मा नालंदा 9334382726

Leave a Reply

Your email address will not be published.