प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना का लाभ के लिए ई-केवाईसी करना अनिवार्य

किसानों को बीज उपचार उपरांत ही बोने चाहिए

NALANDA । ई किसान भवन में शनिवार को कृषि प्रौद्योगिकी प्रबंधन अभिकरण आत्मा के द्वारा खरीफ महाभियान का शुरूआत हुआ। जिसका उद्घाटन प्रखंड प्रमुख ललिता देवी ने दीप प्रज्वलित कर किया। इस मौके पर किसानों के लिए आयोजित प्रशिक्षण शिविर की अध्यक्षता करते हुए परियोजना निदेशक आत्मा सह सहायक निदेशक पौधा संरक्षण अनिल कुमार ने कहा कि किसानों को बीज उपचार उपरांत हीं बोने चाहिए। उपचार से बीज एवं मिट्टी जनित बीमारियों से फसल सुरक्षित रहती है। अपने खेतों में पराली न जलायें। इसके कुप्रभाव से पर्यावरण के साथ मिट्टी की उर्वराशक्ति प्रभावित होती है। कृषि वैज्ञानिक प्रीति सिंह ने फलदार पौधे के साथ औषिधीय पौधे सब्जीयों एवं फुलों की खेती करने की विधि को विस्तार से बताया। प्रखंड कृषि पदाधिकारी रामदेव राम ने कहा प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना का लाभ लेने के लिए किसानों को ई-केवाईसी करना अनिवार्य है। इसके बाद हीं अगली किस्त मिलेगी।

ई-केवाईसी नहीं करने वाले लाभ से होंगे वंचित

ई-केवाईसी नहीं करने वाले लाभ से वंचित हो जायेंगे। आशुतोष कुमार सुधांशु ने कहा इसके प्रबंधन से किसानों का अतिरिक्त शुद्ध लाभ के साथ स्वस्थ्य मिट्टी, पर्यावरण एवं स्वस्थ्य तन होगा। इसकी जागरूकता किसानों के बीच फैलाने की आवश्यकता है। जिससे ग्लोबल वर्निंग मुद्दा का सामाधान हो सके। मौके पर सीओ शंभु मंडल, विज्रेश कुमार, एटीएम, बीटीएम, जनप्रतिनिधि, किसान सलाहकार व कृषि समन्वयक मौजूद थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

You may have missed