राष्ट्रीय लोक अदालत में 755 बैंक ऋण मामलों के निपटारे में 3.65 करोड़ का सेटेलमेंट

NALANDA । जिला न्यायालय के विधिक सेवा सदन में वर्ष 2022 का द्वितीय राष्ट्रीय लोक अदालत का आयोजन प्राधिकार अध्यक्ष सह जिला जज डा. रमेश चन्द्र द्विवेदी के दीप प्रज्ज्वलित कर उद्घाटन के बाद प्रारंभ हुआ। यह जिला जज के न्यायायिक कार्यकाल का अंतिम उद्घाटन कार्यक्रम है। इसके बाद में इस माह के अंत में अवकाश ग्रहण करेंगे। कार्यक्रम को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा कि यह न्याय लाभ पाने का एक उत्तम व त्वरित, आर्थिक तथा समय बचत वाला प्रक्रिया है। जिसका अधिकाधिक संख्या में पक्षकार उपयोग कर न्याय लाभ प्राप्त करें और आयोजन को सफल बनाए।

मुकदमा और विवाद समाप्त होने से मानसिक शांति सहित समय और आर्थिक बचत का लाभ है

इसमें दोनों की जीत के साथ मुकदमा और विवाद समाप्त होने की मानसिक शांति सहित समय और आर्थिक बचत का लाभ है। जिला जज ने अपने कार्यकाल में सभी आयोजन की अध्यक्षता पूरी सक्रियता व वंचितों को न्याय लाभ दिलाने का हर संभव प्रयास के साथ किया। एडीजे सह प्राधिकार सचिव मो. मंजूर आलम के निर्देशन में शुरू हुई आयोजन में निपाटारे के लिए कुल दस न्यायिक बेंच जिसके पीठासीन पदाधिकारी एडीजे आशुतोष कुमार, संतोष कुमार गुप्ता, मनीष कुमार शुक्ला सहित एसीजेएम विमलेन्दु कुमार, एसडीजेएम सुनील कुमार सिंह, मुंसफ अविनाश कुमार, जेएम शिवम कुमार, अनामिका कुमारी, शोभित सौरभ, कुमारी कनिका यादव, प्रतीक सागर, ऋचा राज, प्रियांशु राज, कुमारी अनुष्का चर्तुवेदी थे।

प्रत्येक बेंच में पैनल अधिवक्ता व न्यायिक कर्मी ने किया सहयोग

प्रत्येक बेंच में सहयोग के लिए पैनल अधिवक्ता व न्यायिक कर्मी थे। इसके तहत सभी बैंकों के प्रबंधकों, विभागीय अधिकारियों व कर्मियों ने भाग लिया।

बैंक ऋण के 755 मामलों में कुल 3.65 करोड़ रुपये का सेंटेलमेंट किया गया

आयोजन के तहत बैंक ऋण के 755 मामलों में कुल 3.65 करोड़ रुपये का सेंटेलमेंट किया गया जिसमें हिलसा अनुमंडल न्यायालय में 207 बैंक ऋण मामले में 1.43 करोड़ रुपये का सेटेलमेंट हुआ। वहीं दावा के 13 मामले में 75. 10 लाख रुपये का सेटेलमेंट किया गया। जबकि कुल हिलसा अनुमंडल न्यायालय सहित 107 अपराधिक मामलों का निपटारा कर 48 हजार 500 रुपये की वसूली की गई। इसी प्रकार 52 विद्युत मामले के निपटारे में 11.72 लाख रुपये की वसूली की गई। सर्वाधिक बैंक ऋण 271 मामले का निपटारा सहित 1.39 करोड़ रुपये का सेटेलमेंट कर दक्षिण बिहार ग्रामीण बैंक अग्रणी रहा। उत्पाद अधिनियम के तहत तीन मामलों के निष्पादन में 6 हजार रुपये की वसूली की गई जो पहली बार लोक अदालत में निपटारे के लिए रखी गई है। आयोजन में प्राधिकार कर्मी मो. आतिफ, मंजित, कौशल, मधुसूदन, अरविन्द व पीएलभी राजीव, पंकज ने सहयोग किया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *