Mahua Live Nalanda: यूक्रेन के युद्ध में फंसे छात्रों को वापस लाने को लेकर भाकपा माले ने प्रतिवाद मार्च निकाला

हिलसा (नालन्दा) रूस के राष्ट्रपति पुतिन को यूक्रेन पर युद्ध बंद करने एवं यूक्रेन युद्ध में फंसे करीब 20000 छात्रों को सुरक्षित वापस लाने।युद्ध नहीं शांति चाहिए शांति समानता और सद्भाव चाहिए आदि मांगों को लेकर आज भाकपा माले हिलसा मे शनिवार को विश्व शांति के लिए सड़कों पर प्रतिवाद मार्च निकाला। प्रतिवाद मार्च का नेतृत्व भाकपा माले हिलसा के प्रखंड सचिव अरुण यादव किसान महासभा हिलसा प्रखंड सचिव दिनेश कुमार यादव ने संयुक्त रूप से किया। यह प्रतिवाद मार्च भाकपा माले के प्रखंड कार्यालय से निकलकर काली स्थान वरुण तल सिनेमा मोड़ होते हुए योगीपुर मोड़ के पास पहुंचकर यह मार्च सभा में तब्दील हो गया। इस प्रतिवाद मार्च में दर्जनों लोगों ने हिस्सा लिया। उपस्थित लोगों ने रूस के राष्ट्रपति पुतिन यूक्रेन पर युद्ध करना बंद करो, युद्ध नहीं शांति चाहिए शांति और सद्भाव चाहिए। यूक्रेन में युद्ध में फंसे करीब 20000 छात्रों को भारत सरकार अविलंब सुरक्षित वापस लाओ आदि नारे जोश खरोश के साथ लगा रहे थे। उपस्थित लोगों को संबोधित करते हुए भाकपा माले के प्रखंड सचिव अरुण कुमार यादव ने कहा कि यूक्रेन पर सोवियत रूस के राष्ट्रपति पुतिन द्वारा जो हमला किया जा रहा है। यह काफी निंदनीय है और इसकी हम काफी निंदा करते हैं। यह युद्ध विश्व मानवता के लिए काफी संकट खड़ा कर दिया है आज देश के करीब 20000 छात्र जो यूक्रेन में फंसे हुए हैं भारतीय परिवार इसके लिए काफी चिंतित है। सरकार को इस तनाव की जानकारी थी।इसके बावजूद भारत सरकार ने वहां से छात्रों को सकुशल वापस लाने में जो लापरवाही बरती है। इसकी जितनी भी निंदा की जाए वह कम ही है वहां पर छात्र युद्ध की आशंका व्यक्त कर रहे थे। और बार-बार अपने देश में आने की गुहार लगा रहे थे परंतु भारत की मोदी सरकार ने यहां पर उनके लिए एयर विमान और और निजी विमान मालिकों ने यात्रा का किराया काफी महंगा कर दिया। जिसकी भरपाई करने में छात्र असमर्थ हो चुके हैं।और उल्टे सरकार ने छात्रों को कोई मदद नहीं किया जिसका नतीजा है कि आज वहां पर छात्र युद्ध के बीच फसे गए हैं।भाकपा माले तत्काल युद्ध को बंद करने का विश्व जनमत से अपील करता है। इस युद्ध को रोकने के लिए शांतिपूर्ण भारतीयों को सरकार के खिलाफ सड़क पर उतरने की आह्वान की और तत्काल मोदी सरकार को युद्ध में फंसे छात्रों को देश सकुशल वापस लाने की मांग की। भारत सरकार को तटस्थ रहने के बजाय युद्ध का विरोध और निंदा करनी चाहिए। इस मौके पर किसान महासभा के जिलाध्यक्ष मुनीलाल यादव, किसान महासभा प्रखंड सचिव दिनेश कुमार यादव ,इंकलाबी नौजवान सभा के जिला उपाध्यक्ष शैलेश यादव, प्रखंड अध्यक्ष संजय पासवान ,प्रखंड सचिव ब्रह्मदेव बिंद, प्रखंड कमेटी सदस्य शंकर प्रसाद, कम्मू राम, अशोक पासवान, किसान नेता राजाराम प्रसाद, रमाकांत शर्मा समेत सभी लोग अपने अपने विचार व्यक्त किए ।

Leave a Reply

Your email address will not be published.