Mahua Live Nalanda: स्वामी विवेकानंद जयंती पर नालन्दा कॉलेज में छात्र संवाद आयोजित

बिहार शरीफ(नालंदा) । स्वामी विवेकानंद जयंती को राष्ट्रीय युवा दिवस के रूप में मनाते हुए नालन्दा कॉलेज के राजनीति विज्ञान विभाग में छात्र संवाद आयोजित किया। इस संवाद में अनेकों छात्रों ने विवेकानंद के जीवन, दर्शन, चिंतन के विभिन्न आयामों के बारे में विस्तार से बताया। कार्यक्रम का संचालन विभाग की छात्रा इशा गुप्ता ने किया जिन्होंने सभी भाग लेने वालों का सर्वप्रथम स्वागत किया। राजनीति विज्ञान के शिक्षक डॉ श्रवण कुमार ने इस अवसर पर कहा की विवेकानंद का जीवन सभी युवाओं के लिए प्रेरणास्रोत है एवं उनका आध्यात्म दर्शन अनुकरणीय है। राजनीति विज्ञान के विभागाध्यक्ष डॉ बिनीत लाल ने कार्यक्रम के बारे में बताया कि विवेकानंद जयंती सही रूप में मनाने के लिए विभाग ने छात्र संवाद का आयोजन किया ताकी युवाओं का विचार और अभिव्यक्ति हम सुन सकें। विवेकानंद को सच्ची श्रधांजलि तो यही होगा की ज़्यादा से ज़्यादा युवा उनकी बातों को आत्मसात् करें और देश एवं समाज को मजबूत करने में अपनी भूमिका निभाएँ। उन्होंने कहा की आज जबकी देश आज़ादी का अमृत महोत्सव मना रहा है तो यह ज़रूरी है की भारत अपनी महान संत परम्परा को पुनर्जागृत करे और आने वाले वर्षों में विवेकानंद के सपनो का भारत बनाने के लिए एकजुट होकर प्रयास करें। प्राचार्य डॉ रामकृष्ण परमहंस ने इस अवसर पर विभाग को बधाई देते हुए कहा की आज ज़रूरत है की सभी युवा विवेकानंद की तरह अपने आपको मज़बूत करें तभी वह देश और समाज की प्रगति में अपनी भूमिका निभा सकते हैं। आज इस अवसर पर उन्होंने आहवाहन किया की सभी युवा प्रण लें की वह अपने कर्तव्यबोध का पालन करेंगे। दर्शनशास्त्र के प्राध्यापक डॉ प्रभाष कुमार ने छात्रों के विचारों को सुनकर कहा की छात्र संवाद में सभी ने विवेकानंद के विभिन्न पहलुओं पर रोचक बातें बतायीं। उन्होंने कहा की स्वामी जी भारत के एक व्यावहारिक दार्शनिक थे और इसलिए वह आज भी करोड़ों युवाओं के प्रेरणास्रोत हैं। भौतिकी विभाग के डॉ शशांक शेखर झा ने छात्रों के द्वारा तैयार भाषण की खूब प्रशंसा की एवं कहा की सही मायने में यही विवेकानंद के प्रति कृतज्ञता है। डॉ लाल ने बताया की इस छात्र संवाद में 20 से अधिक छात्रों ने विवेकानंद के आध्यात्मिक, धार्मिक, राजनीतिक, सांस्कृतिक आदि आयामों पर अपनी बात रखी जिसमें आदित्य, रिया, पूजा, अंकित, दिपमाला, सौम्या, सोनम, मानसी, सोनी, मधु, रोहित, निशु, रानी, सोनू, चन्द्रमणि ने रोचक तरीक़े से अपने विचार रखे। कार्यक्रम के अंत में विभाग की छात्रा सुभाषणी ने धन्यवाद ज्ञापन किया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *