Mahua Live Nalanda: स्मार्ट सिटी में किसानवाग के निवासी श्रमदान से रास्ता बनाने को मजबूर।

बिहार शरीफ (नालंदा) । बिहार शरीफ नगर निगम के दावे को झूठलाते हुए एवं निगम को सच्चाई का आईना दिखाते हुए वार्ड नंबर 44 किसान बाग के लोगों ने स्मार्ट सिटी का दर्जा प्राप्त नगर निगम के पदाधिकारियों को यह दिखला दिया कि नगर निगम द्वारा जनता के लिए किसी भी तरह का सुविधाजनक कार्य नहीं किया जाता है तो ऐसे में मोहल्ले वासी श्रमदान से रास्ता बनाने पर विवश हैं । स्थानीय नगर निगम वार्ड संख्या 44 किसान वाग के मोहल्लेवासी नव वर्ष के मौके पर शनिवार को श्रमदान से लगभग 300 फीट रास्ता का निर्माण करने में सुबह से ही जुट गए। लोग अपने खर्चे पर बाहर से मिट्टी मंगवा कर रास्ता का स्वरूप दिया तथा मुहल्ले को रांची पटना मार्ग एन एच 20 में जोड़ दिया । मोहल्ले से रास्ता के लिए सरकारी जमीन रहते हुए कुछ निजी जमीन को भी रास्ता में प्रयोग किया गया । बताया जाता है कि खाता नंबर 932 में 24 डिसमिल रास्ता के लिए जमीन का कुछ हिस्सा पर कुछ लोगों द्वारा मकान बना लिया गया है । इस कारण वहां पर स्थित रैयती जमीन पर रास्ता का निर्माण जमीन मालिकों के सहयोग से किया जा रहा है । स्मार्ट सिटी बनने के बाद भी मोहल्ले वासी सांसद, नगर निगम के वार्ड पार्षद, स्थानीय विधायक को अभिरुचि नहीं लेते देख श्रमदान से रास्ता बनाने का निर्णय लिया तथा नव वर्ष के मौके पर ही कार्य शुरू कर दिया। इसके लिए मुहल्ले वासी आपस में चंदा कर खर्च कर रहे हैं । समाजिक कार्यकर्ता स्थल पर स्वयं कुदाल कटौती लेकर रास्ता बनाने में जुटे थे । इस मौके पर समाजसेवी वीरेंद्र कुमार। अभय कांत , आलोक कुमार , महेश प्रसाद , संजय चौधरी , रामनरेश प्रसाद , रामजतन कुमार , किशोरी प्रसाद , समेत अन्य लोगों ने बताया कि अब नगर निगम बिहारशरीफ स्थानीय विधायक , सांसद से हम लोगों की अपेक्षा है कि श्रमदान द्वारा निर्मित रास्ता को पक्की करण एवं नाला निर्माण शीघ्र किया जाएगा ।

Leave a Reply

Your email address will not be published.