Mahua Live Nalanda: सफलता के लिए कड़ी मेहनत करना जरूरी :अर्चना

पढ़ाई के साथ योगा, खेल तथा अन्य क्रियाकलाप का बनाना होगा सामंजस्य

अर्चना कुमारी का सरस्वती विद्या मंदिर में किया गया अभिनंदन :

Mahua Live Nalanda:- सफलता के लिए कड़ी मेहनत करना जरूरी है। पढ़ाई के साथ योगा, खेल सहित अन्य क्रियाकलाप का सामंजस्य बनाकर रखना होगा। इससे ही सफलता मिलेगी। यूपीएससी की तैयारी करने वाले छात्रों को गलती न हो इसके लिए पहले से ही सतर्क रहना चाहिए। अपनी कमी को जानें। उस हिसाब से तैयारी करें तो सफलता जरूर मिलेगी। ये बातें यूपीएससी में 110वीं रैंक लाने वाली नवादा की बेटी अर्चना कुमारी ने मंगलवार को सरस्वती विद्या मंदिर हसनपुर में कहीं।

अर्चना ने कहा कि तैयारी करने वालों को अपनी अभिव्यक्ति के साथ सोशल मसलों पर भी ओपेनियन रखनी चाहिए। करेंट अफेयर का ज्ञान बहुत जरूरी है। इसके लिए रोजाना अखबार भी देखें। अपने टास्क को प्लानिंग के साथ बांटकर करें तो सफल होंगे। उन्होंने अभिभावकों के लिए कहा कि पैसा देने की ही जिम्मेवारी नहीं होनी चाहिए। बच्चों के साथ रहें। उनका हौसला बढ़ायें। इमोशनल सपोर्ट करें। इससे बच्चे का आत्मविश्वास बढ़ता है और उनमें निखार आता है। अर्चना ने कहा कि अगर उन्हें बिहार में काम करने का मौका मिलता है तो वे सबसे पहले यूथ अनइम्प्लायमेंट पर फोकस करेंगी। यहां काफी बेरोजगारी है। इसे दूर करने के लिए पहल करनी होगी। उन्होंने छात्रों के लिए कहा कि परीक्षा को जिंदगी और मौत न बनने दें। स्कील ओरियेंटेशन शिक्षा लें। इससे आगे चलकर वे किसी न किसी रोजगार से अपने को जोड़ सकेंगे। बिहार खेती के लिए जाना जाता है। यहां के किसानों के सामने भी काफी कठिनाई है। इस पर भी सोच बनानी होगी। शिक्षा व्यवस्था के लिए शिक्षक पीलर होते हैं। शिक्षकों की बहाली टेट परीक्षा व पारदर्शी तरीके से होना चाहिए। इससे योग्य व बेहतर शिक्षक निकलकर आयेंगे और समाज का बेहतर निर्माण करेंगे। इससे पढ़े व योग्य लोगों को मौका मिलेगा।
शिक्षक की बेटी हैं अर्चना :
नवादा जिले के मध्य विद्यालय डोहरा के सेवानिवृत हेडमास्टर राजेन्द्र प्रसाद की बेटी अर्चना कुमारी ने अपने जिले का मान बढ़ाते हुए पहली बार वर्ष 2019 में इंडियन इकोनोमिक परीक्षा में 16वीं रैंक लायी थी। उसके बाद उन्हें कृषि मंत्रालय में सहायक निदेशक के पद पर कार्यरत थी। इस बार उन्होंने यूपीएससी की परीक्षा पास की और 110वीं रैंक लाकर देश व जिले के साथ अपने स्कूल सरस्वती विद्या मंदिर हसनपुर का मान को बढ़ाया। अर्चना कुमारी ने दसवीं तक सरस्वती विद्या मंदिर हसनपुर में पढ़ाई की थी। उसके बाद उच्चतर शिक्षा के लिए दिल्ली चली गयी थी। जेएनयू से अर्थशास्त्र में स्नातकोत्तर की शिक्षा ली।
अर्चना कुमारी का सरस्वती विद्या मंदिर में किया गया अभिनंदन :
अपने स्कूल में अर्चना कुमारी का अभिनंदन किया गया। समारोह में भाग लेते हुए विद्या भारती के संगठन मंत्री ख्याली राम ने कहा कि बच्चों में प्रतिभा छिपी होती है। इसे निखार करने की जरूरत है। अर्चना आज सभी छात्र-छात्राओं के लिए प्रेरणा बनी हैं। पीटीसी के आईपीएस हिमांशु त्रिवेदी ने कहा कि लक्ष्य को सामने रखकर तैयारी करें तो सफलता मिलती है। सीआरपीएफ के कमांडेंट अरविन्द कुमार ने कहा कि कठिन परिश्रम से सफलता मिलती है। जवाहर नवोदय विद्यालय के प्राचार्य आशुतोष कुमार ने कहा कि हर बच्चे में अर्चना दिखायी दे रही है। केन्द्रीय विद्यालय के प्राचार्य अजय कुमार ने कहा कि अर्चना को देखकर बच्चे उत्साहि होंगे। बहन अर्चना के बताये रास्ते पर चलें। डॉ. अंजनी कुमार ने कहा कि शिक्षा में लगन जरूरी है। नालंदा विभाग प्रमुख राकेश नारायण अम्बष्ट ने कहा कि लक्ष्य ऐसा हो जिससे युवा पीढ़ी का भविष्य निर्माण हो। प्राचार्य अमरेश कुमार ने कहा कि बच्चे कोमल होते हैं। उन्हें बेहतर सीख व दिशा दी जाय तो हर कठिन से कठिन कार्य भी कर लेते हैं। बच्चों को सही राह दिखाना हम सबों का दायित्व है। इस मौके पर सेवा प्रमुख नालंदा परमेश्वर प्रसाद, प्राचार्य अमरेश कुमार, उप प्राचार्य सुमंत कुमार, फणीश्वर नाथ, अमर कुमार सिंह, डॉ. आनंद कुमार त्रिपाठी, डॉ. उमेश चन्द्र, डॉ. रवि कुमार सहित अन्य मौजूद थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.