Mahua Live Nalanda: नगर विकास एवं आवास विभाग के परियोजना पदाधिकारी ने हिलसा नगर परिषद की योजनाओं का किया निरीक्षण।

निरीक्षण के दौरान पाई गई बड़े पैमाने पर गड़बड़ी।

Mahua Live Nalanda:- हिलसा नगर परिषद के अंतर्गत संचालित होने वाली विभिन्न योजनाओं में व्याप्त लूट खसोट एवं कमीशन खोरी की लगातार मिल रही शिकायतों के मद्देनजर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के निर्देश पर नगर विकास एवं आवास विभाग के परियोजना पदाधिकारी सुशील कुमार मिश्रा ने यहां गहन जांच-पड़ताल किया। इस दौरान उनका सबसे अधिक फोकस नल जल योजना पर था। उन्होंने नगर परिषद द्वारा संचालित विभिन्न योजनाओं का निरीक्षण किया तथा आम नागरिकों से फीडबैक लिया। निरीक्षण के दौरान नागरिकों ने नल जल योजना के अलावा गली ढलाई एवं पुराने कुएं के जीर्णोद्धार आदि योजनाओं में भारी गड़बड़ी की शिकायत किया। सबसे पहले श्री मिश्रा ने नगर परिषद कार्यालय पहुंचकर विभिन्न कागजातों की गहन जांच किया । इस दौरान कागजातों में कई प्रकार की कमियां पाई गई। शहर निवासी विमलेश कुमार उर्फ भोली एवं अनिल कुमार आजाद के द्वारा कंप्लेन किया गया था कि नगर परिषद में डीजल की खपत में बड़े पैमाने पर घोटाला किया जा रहा है। कूड़ा कचरा का उठाव के लिए चलाए गए गाड़ी बिना नंबर प्लेट का है । जांच के दौरान बिना नंबर प्लेट की गाड़ी चलाए जाने का मामला सही पाया गया। जांच के दौरान कितना जनरेटर चलता है, कितना तेल खपत होता है, इसका कोई डायरी भी नहीं मिला। कृष्णापुर के निवासी के द्वारा कंप्लेन के बाद हिलसा नगर परिषद के वार्ड संख्या 7 के अंतर्गत कृष्णापुर गांव में नल जल योजना के द्वारा लगाए गए 65 घरों में लगाए गए नल का जायजा लिया गया। जांच के दौरान पाया गया कि कई स्थानों पर ऐसे नल दिए गए थे जहां कोई आवश्यकता नहीं थी। कई जगह घर के बाहर भी कनेक्शन मिला। जिनके घर में मोटर है उन्हें भी कनेक्शन दिया गया है। इस मामले में कुछ जगहों पर उन्होंने आवश्यक दिशा-निर्देश नगर परिषद के पदाधिकारियों को दिया। उन्होंने कहा कि सूखा और गीला कूड़ा कचड़ा का घर से ही सही निष्पादन हो सके। इसके लिए वृहद प्रचार-प्रसार जरूरी है। इसका राजनीतिकरण नहीं होना चाहिए। न ही इसे धर्म से जोड़ा जाना चाहिए। स्वस्थ एवं स्वच्छ समाज बनाने के लिए गंदगी हटाना जरूरी है। इसमें समाज के सभी तबके के लोगों का भरपूर सहयोग होना चाहिए। उन्होंने शहर में जीर्णोद्धार किए गए कई पुराने कुएं का भी निरीक्षण किया जिसमें कई प्रकार की कमियां पाई गई। बताया जाता है कि नगर परिषद के विभिन्न योजनाओं के जांच के बाद पदाधिकारी पूरी तरह से असंतुष्ट नजर आए। अचानक हुई जांच से एक ओर जहां नगर परिषद के कर्मियों के बीच हड़कंप मच गया है वही नागरिकों ने राहत की सांस ली है। नागरिकों ने बताया कि नगर परिषद की योजनाओं में व्याप्त गड़बड़ी के बारे में सही रिपोर्ट सरकार को सौंपे जाने के बाद कई कर्मियों पर गाज गिरनी तय है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.