दशहरा एवं अन्य त्योहारों में विधि व्यवस्था बनाए रखने को ले अनुमंडल स्तरीय शांति समिति की हुई बैठक।

पर्व के दौरान मेला, नाच गान ,जागरण, सांस्कृतिक कार्यक्रम आदि पर रहेगा प्रतिबंध

पूजा पंडाल में मात्र दो ध्वनि विस्तारक यंत्र की होगी अनुमति

अफवाह फैलाने वालों पर कड़ी निगरानी रखने का आदेश।

Mahua Live Nalanda:- दशहरा एवं अन्य त्योहारों में विधि व्यवस्था बनाए रखने को लेकर शुक्रवार को हिलसा शहर के एस यू कॉलेज के सभागार में अनुमंडल स्तरीय शांति समिति की बैठक संपन्न हुई। अनुमंडल पदाधिकारी राधाकांत एवं अनुमंडल पुलिस पदाधिकारी कृष्ण मुरारी प्रसाद की संयुक्त अध्यक्षता में हुई। इस बैठक में अनुमंडल के सभी प्रशासनिक एवं पुलिस पदाधिकारियों ने हिस्सा लिया।

बैठक में अनुमंडल पदाधिकारी राधाकांत ने कहा कि राज्य सरकार के निर्देश पर इस बार त्यौहार के दौरान मेला, झूला, नाच गाना, जागरण, आर्केस्ट्रा समेत सांस्कृतिक कार्यक्रमों के आयोजन पर पूर्ण रूप से प्रतिबंध लगा दिया गया है। सभी पूजा समितियों को अनिवार्य रूप से लाइसेंस लेना होगा। बिना लाइसेंस के मूर्ति स्थापित करने एवं विसर्जन की अनुमति नहीं दी जाएगी। उन्होंने कहा कि पूजा पंडाल एवं मूर्ति विसर्जन के लिए चिन्हित घाटों का भौतिक रूप से सत्यापन पूर्व में ही करा लिया जाएगा। सभी घाटों पर पर्याप्त रोशनी एवं बैरिकेडिंग आदि का आदेश दिया गया है। पूजा पंडालों में अधिकतम दो ध्वनि विस्तारक यंत्र की अनुमति दी जाएगी। इसी प्रकार डीजे पर भी पूर्ण प्रतिबंध रहेगा। अनुमंडल पुलिस पदाधिकारी कृष्ण मुरारी प्रसाद ने कहा कि त्योहार के समय अवैध रूप से चंदा वसूली किये जाने वाले पूजा समितियों के विरुद्ध कड़ी कार्रवाई की जाएगी। भीड़-भाड़ वाले सभी स्थानों पर चौकीदार एवं दफादारो की प्रतिनियुक्ति की जाएगी। इसी प्रकार पेट्रोल पंप, व्यवसायिक प्रतिष्ठान, पोस्ट ऑफिस आदि स्थानों पर सघन गश्ती अभियान का आदेश दिया गया है। उन्होंने कहा कि ध्वनि विस्तारक यंत्र से ऐसा कोई गाना या गीत नहीं बनाया जाए जिससे किसी धर्म जाति के लोगों की भावना को ठेस पहुंचे। पर्व के दौरान अवैध रूप से शराब बनाने वाले एवं इसका सेवन करने वाले लोगों के विरुद्ध सघन अभियान चलाने का आदेश दिया गया है। अफवाह फैलाने वालों पर कड़ी नजर रखी जा रही है। उन्होंने कहा कि सभी पूजा समितियों को अनिवार्य रूप से सीसीटीवी लगाने तथा कोविड-19 के शर्तों को अनुपालन करने का आदेश दिया गया है। पूजा समिति में किसी भी पंचायत चुनाव का कोई भी पार्टी का उम्मीदवार अथवा उसके प्रतिनिधि द्वारा की जाने वाली गतिविधियों पर कड़ी नजर रखी जाएगी। उन्होंने कहा कि अनुमंडल के सभी थानाध्यक्ष, अंचलाधिकारी एवं प्रखंड विकास पदाधिकारियों को संबंधित पूजा समितियों एवं गणमान्य नागरिकों के साथ बैठक करने का निर्देश दिया गया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.