Mahua Live Nalanda: शंखनाद एवं अखण्ड ज्योति आई हॉस्पीटल दीघा के सौजन्य से निःशुल्क नेत्र जांच शिविर का हुआ आयोजन

गरीब व लाचार लोगों की सेवा ही ईश्वर की पूजा


गरीबों की सेवा और परोपकार ही सबसे बड़ा धर्म

Mahua Live Nalanda:- साहित्यिक भूमि बबुरबन्ना मोहल्ले में प्रातः 10 बजे से 4 बजे तक साहित्यिक मंडली ‘शंखनाद’ के तत्वावधान में ‘शंखनाद’ के सक्रिय सदस्य सरदार वीर सिंह के आवास के बगल सभागृह में भव्य निःशुल्क नेत्र परीक्षण एवं निःशुल्क दवा वितरण का आयोजन किया गया।

यह समाजसेवा का कार्यक्रम ‘अखण्ड ज्योति आई हॉस्पीटल’ दीघा-पटना के कुशल ख्याति प्राप्त चिकित्सक डॉ. सत्येन्द्र नारायण सिंह और सहायक चिकित्सक राजु सिंह तथा साहित्यिक मंडली ‘शंखनाद’ के द्वारा शिविर लगा कर निःशुल्क नेत्र जाँच, निःशुल्क लेंस एवं निःशुल्क आँखों का ऑपरेशन करवाने के लिए नेत्र रोगियों को चिन्हित किया गया। जिसका आयोजन ‘शंखनाद’ परिवार के सदस्यों ने मिलकर किया।
साहित्यिक मंडली ‘शंखनाद’ तथा सरदार वीर सिंह जी एवं समाजसेवी राकेश बिहारी शर्मा कोई राजनैतिक व्यक्ति नही हैं, बल्कि एक साधारण इंसान और साहित्यिक मंडली ‘शंखनाद’ के सक्रिय सदस्य एवं समाजसेवी हैं। मानव होने के नाते एक व्यक्ति का फर्ज है वह निःस्वार्थ भाव से साहित्य सेवा तथा आपस में एक दूसरे की सेवा, यही साहित्यिक मंडली ‘शंखनाद’ का सबसे बड़ा धर्म व लक्ष्य और कार्य है। ‘शंखनाद’ के सचिव समाजसेवी राकेश बिहारी शर्मा तथा समाजसेवी सरदार वीर सिंह जी को जिले में व अपने आस-पास के अभावग्रस्त जरूरतमंद लोगों को देखकर यह कार्य करने की प्रेरणा मिली। बताया कि वह इसी प्रकार लाचार अभावग्रस्त लोगों की हमेशा मदद करते रहेंगे। यह बातें साहित्यिक मंडली ‘शंखनाद’ के सहयोगी सविता बिहारी ने निःशुल्क आँखों का जाँच और दवा वितरण शिविर में कही। उन्होंने कहा कि निस्वार्थ भाव से हर गरीब की सेवा करने वाला और जरूरतमंदों की मदद करने वाला ही सच्चा मानव धर्म निभाता है। सभी प्राणियों में मनुष्य को श्रेष्ठ इसलिए माना जाता है क्योंकि दया, क्षमा, प्रेम और परोपकार की भावना सिर्फ इन्हीं में देखने को मिलती है। उन्होंने सभी से अपील करते हुए कहा कि गरीबों की मदद के लिए समृद्ध लोग को हाथ बढ़ाना चाहिए।मौके पर साहित्यिक मंडली ‘शंखनाद’ के सचिव साहित्यकार राकेश बिहारी शर्मा ने कहा कि समृद्ध तथा समाजसेवियों को जरूर गरीबों की सेवा करनी चाहिए। गरीब व लाचार लोगों की सेवा ही ईश्वर की पूजा है। क्योंकि सभी धर्मों के धर्म गुरुओं ने कहा है कि गरीबों की सेवा हर हाल में करनी चाहिए। तभी आपका अर्जित संपत्ति आपके काम आएगा। अगर आपके पास सब कुछ है और बगल का पड़ोसी बिना खाना खाए ही सो जाता है या कष्ट में है, तो आपका धन संपत्ति सब कुछ बेकार है। इसलिए सभी लोगों की यह जिम्मेदारी बनती है कि आपके पास जो कुछ हो उसमें से थोड़ा बहुत गरीबों की सेवा में जरूर लगाएं।मौके पर समाजसेवी सरदार वीर सिंह ने कहा कि गरीबों की सेवा ही सच्ची भगवत सेवा है। दुनिया में इंसानियत से बड़ा कोई धर्म नही होता। समाज के कमजोर तबके की भलाई के लिए यथा योग्य समर्थ लोगों को आगे आना चाहिए। दीनहीनों की भलाई करने वाले का ईश्वर मददगार होता है। गरीबों की सेवा करना सच्चा धर्म है। क्योंकि गरीबों में ईश्वर का निवास होता है और मैं भी लाचार व गरीब की सेवा में ही विश्वास रखता हूं।इस अवसर पर साहित्यिक मंडली ‘शंखनाद’ के समाजसेवी धीरज कुमार, यशपाल सिंह, देवशरण पासवान, जयप्रकाश यादव, अहमद रेज़ा, कामता पासवान, ऋतु पासवान सहित नालंदा जिले के सुदूरवर्ती क्षेत्रों के 178 लोगों का जाँच किया गया, जिसमें से 58 मोतियाबिंद रोगियों को चिन्हित किया गया। चिन्हित मोतियाबिंद रोगियों का ऑपरेशन एवं दवा लेंस सहित निःशुल्क 01 अक्टूबर 2021 को अखण्ड ज्योति आई हॉस्पीटल दीघा घाट-पटना के कुशल चिकित्सक के द्वारा किया जाएगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published.