Mahua Live Nalanda: उप विकास आयुक्त की अध्यक्षता में नीरा उत्पादन/बिक्री की समीक्षा बैठक

बिहार शरीफ(नालंदा) । जिला में नीरा उत्पादन एवं बिक्री को लेकर आज उप विकास आयुक्त की अध्यक्षता में हरदेव भवन सभागार में समीक्षा बैठक आहुत की गई।जिला में ग्रामीण क्षेत्रों के 3245 एवं शहरी क्षेत्रों के 375, कुल 3620 सक्रिय टैपरों को विगत महीनों में प्रशिक्षण दिया जा चुका है।नीरा उत्पादन के लिए जिला में जीविका समूह के सहयोग से 90 उत्पादक समूह क्रियाशील किये गए हैं।सभी उत्पादक समूहों द्वारा नीरा उत्पादन से संबंधित आवश्यक सामग्री एवं उपकरणों का क्रय किया गया है। वर्किंग कैपिटल के रूप में प्रत्येक समूह के लिए 10 हजार रुपये का प्रावधान किया गया है। नीरा के परिवहन के लिए 75 वाहनों को स्थानीय उत्पादक समूहों द्वारा भाड़े पर लिए जाने की व्यवस्था की गई है।
नीरा की बिक्री के लिए जिला में 194 विक्रय केंद्र बनाए जा रहे हैं। इनमें से 58 स्थाई विक्रय केंद्र के रूप में तथा शेष अस्थाई विक्रय केंद्र के रूप में होंगे। स्थाई विक्रय केंद्र के लिए 48 पुरानी गुमटियों की मरम्मत कराई जा चुकी है तथा 10 नई गुमटियां तैयार की जा रही है। उप विकास आयुक्त ने 2 दिनों के अंतर्गत सभी गुमटियों को तैयार स्थिति में लाने का निर्देश दिया। सभी स्थाई विक्रय केंद्रों को बाजार के महत्वपूर्ण स्थल पर संचालित करने का निर्देश दिया गया। महत्वपूर्ण पर्यटन स्थलों के पास भी नीरा विक्रय केंद्र के संचालन की व्यवस्था सुनिश्चित करने को कहा गया। जिला में नीरा की बिक्री प्रारंभ हो चुकी है। फिलहाल खजूर के पेड़ से तैयार नीरा की बिक्री 15 विक्रय केंद्रों के माध्यम से प्रारंभ की गई है। आगामी एक सप्ताह के बाद ताड़ के पेड़ से तैयार नीरा की बिक्री भी प्रारंभ हो जाएगी।
बिहार शरीफ स्थित नीरा बॉटलिंग प्लांट की अधिकतम क्षमता 4000 लीटर प्रतिदिन की है। जिला में तीन चिलिंग प्लांट कार्यरत हैं, जिनकी समेकित भंडारण क्षमता 1500 लीटर है। इसके साथ ही जिन क्षेत्रों में अधिक क्रियाशील टैपर हैं, ऐसे 43 स्थलों पर नीरा के सुरक्षित भंडारण के लिए डीप फ्रीजर की व्यवस्था भी की गई है।सभी चिलिंग प्लांट एवं डीप फ्रीजर की व्यवस्था वाले स्थलों से नीरा को कॉम्फेड के रेफ्रिजरेटेड वाहन के माध्यम से नीरा बॉटलिंग प्लांट तक लाने की सुगम व्यवस्था सुनिश्चित करने का निर्देश दिया गया। कॉम्फेड के पास फिलहाल तीन रेफ्रिजरेटेड वाहन उपलब्ध हैं।
उप विकास आयुक्त ने चिलिंग प्लांट एवं डीप फ्रीजर पॉइंट में नीरा की गुणवत्ता निर्धारित मानक के अनुरूप सुनिश्चित करने का निर्देश सभी बीपीएम जीविका को दिया।
नीरा से गुड़, पेड़ा आदि जैसे उत्पादों को तैयार करने के लिए भी उत्पादक समूह को तैयार करने का निर्देश दिया गया। बैठक में डीपीएम जीविका एवं जीविका के सभी बीपीएम उपस्थित थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.